शाहीन बाग में ९९ दिन से जारी CAA विरोधी प्रदर्शन में इक्के-दुक्के लोग

AajKaAanad    24-Mar-2020
Total Views |
मुंबई में धरना अस्थाई तौर पर खत्म : लखनऊ में १७ जनवरी से सैकडों महिलाएं प्रदर्शन कर रही थीं
 
CAA_1  H x W: 0

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस देश के २३ राज्यों में फैल चुका है. भारत के ७५ जिले ३१ मार्च तक लॉकडाउन किए गए हैं. इसके बाद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए)के खिलाफ लखनऊ और मुंबई में लंबे वक्त से जारी धरना अस्थाई तौर पर खत्म हो गया. सोमवार को दिल्ली के शाहीन बाग में पंडाल खाली मिले और यहां इक्के-दुक्के लोग ही नजर आए. वहीं, लखनऊ के घंटाघर और मुंबई मोरलैंड रोड को प्रदर्शनकारियों ने खाली कर दिया है कोरोना से लडाई के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर रविवार को देशभर में जनता कर्फ्यू लगाया था.

सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ शाहीनबाग में सैकडों प्रदर्शनकारी धरने पर बैठे थे. उन्हें हटाकर ओखला इलाके के रास्ते खाली कराने के लिए सुप्रीम कोट ने वार्ताकार नियुक्त किए थे. काफी कोशिशों के बाद भी धरनास्थल को खाली नहीं कराया जा सका था, लेकिन अब प्रदर्शन के ९९ दिन बाद लॉकडाउन के कारण प्रदर्शनकारियों की संख्या कम हो गई. इससे पहले रविवार सुबह धरनास्थल के पास लगे बैरिकेड्स पर पेट्रोल बम फेंका गया. हालांकि इस घटना में सभी सकुशल रहे. प्रदर्शनकारियों के दो गुटों में जनता कर्फ्यू का समर्थन करें या न करें, इसको लेकर शनिवार रात झडप हो गई थी.

CAA_1  H x W: 0 
लखनऊ : यहां के घंटाघर पर पिछले करीब ६६ दिन से सैकडों महिलाएं सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ धरने पर बैठी थीं. इसे भी कोरोना के खतरे और लॉकडाउन के मद्देनजर वापस ले लिया गया है. महिलाओं ने एक खत में कहा कि कोरोना खत्म होने पर प्रदर्शन फिर शुरू होगा. इस दौरान उन्होंने सांकेतिक तौर पर अपने दुपट्टे घंटाघर पर ही छोड दिए. रविवार रात प्रदर्शनकारियों ने यह जगह खाली कर दी, इसके बाद सोमवार सुबह प्रशासन ने घंटाघर और आसपास के इलाके की सफाई कराई.

CAA_1  H x W: 0

मुंबई : यहां के मोरलैंड रोड पर भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पिछले ५० दिनों से प्रदर्शन चल रहा था. सोमवार को कोरोना संक्रमण के खतरे और लॉकडाउन को देखते हुए इसे भी रद्द कर दिया गया. उत्तर प्रदेश के ४ शहरों में प्रदर्शन जारी यूपी के मुरादाबाद, अलीगढ और प्रयागराज समेत ५ शहरों में प्रदर्शन चल रहा है. हालांकि, यहां महिला प्रदर्शनकारियों की संख्या कम है. सहारनपुर के धरने में महिलाएं कोरोना से बचाव के लिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रही हैं. हर प्रदर्शनकारी के बैठने के लिए १-१ मीटर की दूरी पर तख्त रखे गए. प्रयागराज में भी कुछ इसी तरह के इंतजाम हैं. दूसरी ओर, मुरादाबाद के धरने में जनता कफ्र्यू के दिन रविवार को आम दिनों की तुलना में ज्यादा भीड रही. कोरोना से बचाव के भी कोई इंतजाम नहीं थे. पुलिस-प्रशासन ने लोगों को २१ मार्च को धरना खत्म करने के निर्देश दिए थे, लेकिन इसे नजर अंदाज किया गया. अब १२ नामजद समेत अन्य प्रदर्शनकारियों के खिलाफ केस दर्ज करने की तैयारी चल रही है.