यूपी की नई फ़ोर्स बिना वारंट कर सकती है गिरफ्तार और ले सकती है तलाशी!

    16-Sep-2020
Total Views |

up_1  H x W: 0
 
यूपी में नवगठित उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) काे केंद्रीय औद्याेगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की तर्ज पर अधिकार दिए गए हैं. इसमें विशेष परिस्थितियाें में बिना वारंट गिरफ्तार करने और बिना वारंट तलाशी लेने का अधिकार भी शामिल है.
 
गृह विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि, केंद्रीय औद्याेगिक सुरक्षा बल अधिनियम 1968 में यह प्रावधान है कि, बल का काेई भी सदस्य उन परिस्थितियाें में बिना वारंट और बिना मजिस्ट्रेट की अनुमति के ऐसे किसी भी व्यक्ति काे गिरफ्तार कर सकता है, जाे उसके विरुद्ध स्वेच्छापूर्वक आपराधिक बल का प्रयाेग करता है, अथवा उसका प्रयास करता है. हमला करता है या हमले का प्रयास करता है.
 
इसी तरह उन परिस्थितियाें में बिना वारंट तलाशी लेने का अधिकार है, जब अपराधी के फरार हाेने अथवा अपराध का साक्ष्य नष्ट किए जाने की आशंका हाे. इन परिस्थितियाें में यदि वह उचित समझता है कि किसी व्यक्ति ने ऐसा अपराध किया है, ताे वह उसे गिरफ्तार भी कर सकता है. प्रदेश सरकार ने यूपीएसएसएफ काे विशेष परिस्थितियाें में बिना वारंट के तलाशी लेने और गिरफ्तारी करने का अधिकार दिया है. इसे प्रदेश में मेट्राे रेल, एयरपाेर्ट, औद्याेगिक संस्थानाें, बैंकाें, वित्तीय संस्थानाें, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानाें, ऐतिहासिक, धार्मिक व तीर्थ स्थलाें एवं अन्य संस्थानाें व जिला न्यायालयाें आदि की सुरक्षा में तैनात किया जाएगा.