काेविड से निपटने 50 हजार कराेड़ का पैकेज

    06-May-2021
Total Views |
 
RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने पत्रकार-वार्ता में किया महत्वपूर्ण ऐलान
 
RBI_1  H x W: 0
  • कहा- वैक्सीन निर्माताओं, आयातकाें, सप्लायर्स, दवा उत्पादकाें, अस्पतालाें, लैब आदि काे दिए जाएंगे लाेन 
  • आम लाेगाें काे इलाज हेतु भी मामूली ब्याज पर लाेन देने का फैसला 
  • यह भी कहा- काेराेना की दूसरी लहर पर हमारी कड़ी नजर, इससे अर्थव्यवस्था पर  फिर संकट मंडरा रहा, हमें सतर्क रहना हाेगा
  • बैंक केवाईसी अपडेट नहीं हाेने पर 31 दिसंबर तक लेन-देन पर राेक नहीं लगा सकेंगे: मुश्किल समय में राहत देना जरूरी
काेराेना की दूसरी लहर ने भयंकर रूप ले लिया है तथा इकाेनाॅमी पर संकट मंडराने लगा है. ऐसे में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाएं देने व काेविड के संकट से निपटने के लिए 50 हजार कराेड़ की लिक्विडिटी का प्रावधान किया है. RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने पत्रकार वार्ता में यह महत्वपूर्ण ऐलान किया. उन्हाेंने कहा कि वैक्सीन निर्माताओं, आयातकाें, सप्लायर्स, दवा उत्पादकाें, अस्पतालाें, लैब आदि काे लाेन दिए जाएंगे. आम लाेगाें काे इलाज हेतु भी कम ब्याज पर लाेन देने का फैसला लिया गया है. उन्हाेंने कहा कि काेराेना की दूसरी लहर से हाे रहे असर पर हमारी कड़ी नजर है. इससे अर्थव्यवस्था पर फिर
संकट मंडरा रहा है और इस वजह से हमें सतर्क रहना हाेगा. बैंक केवाईसी अपडेट न हाेने पर 31 दिसंबर तक लेनदेन पर राेक नहीं लगा सकेंगे. 
 
उन्हाेंने कहा रिकवर हाे रही इकाेनाॅमी पर दूसरी लहर का गहरा असर हाेना चिंता की बात है. पहली लहर के बाद से देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर आ रही थी, लेकिन काेविड की दूसरी लहर ने स्थितियां खराब की हैं. रिजर्व बैंक ने काेविड संबंधी इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी कंपनियाें तथा अन्य इकाइयाें और काेविड के इलाज के लिए आम लाेगाें काे सस्ता ऋण मुहैया कराने के लिए 50 हजार कराेड़ रुपये के पैकेज की घाेषणा की है जाे रेपाे दर पर उपलब्ध हाेगा. आरबीआई के अध्यक्ष शक्तिकांता दास ने एक प्रेस वार्ता में बताया कि बैंक टीका बनाने वाली कंपनियाें, दवा बनाने वाली कंपनियाें, काेविड के इलाज के लिए जरूरी उपकरणाें, ऑक्सीजन और वेंटीलेटर बनाने वाली कंपनियाें, इनके आयातकाें, अस्पतालाें, नर्सिंग हाेम और पैथाेलाॅजी प्रयाेगशालाओं काे रेपाे दर पर ऋण दे सकेंगे.